The Best Things About Meaning Of Inflation In Hindi | मुद्रास्फीति क्या है?

Spread the love

Meaning Of Inflation In Hindi with example | मुद्रास्फीति क्या है?

जब किसी देश में कई वस्तुओंकी कीमतों में बढ़ोतरी होना। वस्तुओ और जो सेवाएं हम खरीदते हे उसका मूल्य पिछले साल के मुकाबले लगातार बढ़ाना।  

या हम ऐसा  सकते हे की अपने पैसे की मूल्य काम होना।  यदि हम १० रुपये में १ किलो आम  खरीद ते थे  अब इस साल १ किलो आम १५ रुपये में मिल रहा हे। 

 मुद्रा की क्रय शक्ति या खरीद करने की मूल्य में कमी आना इसे मुद्रास्फीति या inflation कह सकते हो।  कई लोगो के इस सवाल meaning of  inflation in hindi का जवाब हे 

इस सबके उलट हो जाए मतलब अगर वस्तुवो की कीमतों में गिरावट आ जाये या कीमते पिशाले सालो के मुकाबले काम हो जाए।  

या हमारे मुद्रा की मूल्य में बढ़ोतरी हो जाए हम काम मुद्रा में ज्यादा सामान खरीद सके तो इसे अपस्फीति  कह सकते हो। 


  1. मुद्रास्फीति  में करेंसी की वैल्यू काम हो रही हे उससे हम काम सामान खरीद प् रहे हे।  
  2. सामने  सेवावो की कीमते कुछ समय के लिए बढ़ रही हे 
  3. जो लोक पैसे घर में पैसा जमा करते हे उनको इससे नुकसान होता हे 
  4. जो लोक सामान के इकट्ठा करते हे भविष्य में बेचने के लिए उनको इन्फ्लेशन  फायदा होता हे.
  5. This is the meaning of inflation in hindi 
meaning of inflation in hindi
inflation meaning in hindi with example

Coues of inflation in Hindi | मुद्रास्फीति का कारण क्या है?

जो पैसा सेंट्रल बैंक मार्किट में डाल  देती हे इससे भी इन्फ्लेशन बढ़ाता हे।  बैंक मार्किट से बॉन्ड खरीदते हे और पैसा मार्किट में बहा देते हे .

इससे लोगो के हाथ  में ज्यादा पैसा आता हे और वो ज्यादा खरीदारी करते हे इससे सामने के कीमते बढाती हे और करेंसी की  होती हे।  

इन्फ्लेशन के तीन प्रकार होते हे १. Demand-Pull Inflation,२  Cost-Push inflation, ३.  Built-In inflation.

Types of Inflation In Hindi | मुद्रास्फीति कितने प्रकार की होती है?

१. . Demand-Pull inflation meaning  in hindi  | डिमांड इन्फ्लेशन –  

 जब लोगो के हात  पैसा आता हे तब सामान की मांग ज्यादा होती हे इससे भी सामने की कीमते बढ़ती हे।  

कई समय सरकार भी ऐसे कदम उठती ही जिससे सेवाएं और सामने की मांग बढाती हे जिससे रोजगार के दाम , कच्चा माल के दाम बढ़ाते हे और इन्फ्लेशन आता हे।  

२. Cost-Push inflation meaning  in hindi  – 

जब कर्जा महंगा होता हे , जो सामान बनता हे उसके प्रोसेस का डैम बढ़ता हे जैसे तेल मेहगा होना , बिजली महंगी होना.

 इससे फाइनल प्रोडक्ट होता हे इसपर असर होता हे और सामने की बढाती हे. इसे कॉस्ट इन्फ्लेशन कहते हे।  

३.  Built-In inflation. – 

इसमें मजदुर सामने और सेवाएं के कीमतों को देखकर अपने भी दाम बढ़ा देते हे.

 उनको लगता हे की दाम बढ़ने से उनके बस में ये मेह्गाई हो सकती हेBuilt-In inflation. कहते हे।  

inflation meaning in hindi with example

अगर आपने एप्पल २००५ में १० रूपये से १ kg ख़रीदा और वही २००६ में १ kg का कीमत १२ रुपये हो गया. 

तो हर दर साल एप्पल महंगा मिल रहा हे तो इसे इन्फ्लेशन कहते हे। 

कीमत की लगातार बढ़ोतरी होना या थोड़ा समय के लिए भी होना तो उस इन्फ्लेशन कह सकते हो।

Types of Inflation index In Hindi | मुद्रास्फीति सूचकांक प्रकार

मुद्रास्फीति को मापने के कई तरीके हैं भारत तीन प्रकार का उपयोग करता है। सबसे महत्वपूर्ण सूचकांक उपभोक्ता मूल्य सूचकांक है, जो भारत में मुद्रास्फीति को मापता है
1. cpi {उपभोक्ता मूल्य सूचकांक} – यह आपकी मूलभूत आवश्यकताओं की लागत को मापता है। 

यामाडे कई वस्तुओं की कीमतों की गणना करता है जैसे कि भोजन, चिकित्सा आइटम, परिवहन लागत, उनकी औसत कीमत की गणना करता है और सूचकांक निर्धारित करता है।

2. थोक मूल्य सूचकांक – यह सूचकांक माचिस या थोक वस्तुओं की कीमत निर्धारित करता है।

3. उत्पादक मूल्य सूचकांक – तैयार उत्पाद का विक्रय मूल्य वरुण है सूचकांक द्वारा निर्धारित किया जाता है।

How to calculate inflation In Hindi | मुद्रास्फीति की गणना कैसे करें

मुद्रास्फीति दर = (अंतिम सीपीआई सूचकांक मूल्य/प्रारंभिक सीपीआई मूल्य)*100

मान लें कि आप जानना चाहते हैं कि मे  २००१ और सितंबर २०१५  के बीच ५०००  की क्रय शक्ति कैसे बदल गई।  मार्च १९८० के लिए, यह ५०. ३ 

 (प्रारंभिक सीपीआई मूल्य) था और सितंबर २०१५  के लिए यह २९९. ५६  (अंतिम सीपीआई मूल्य) था।

प्रतिशत मुद्रास्फीति दर = (२९९. ५६ /५०. ३ )*100 = (५. ९५५४६ )*100 = ५९५.५४ %

रूपया मूल्य में परिवर्तन = ५. ९५५४६  * ५०००  = २९७७७. ३ 

अगर फ्यूचर और ऑप्शन के बारे में जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक कीजिये .

होम लोन के  बारे में जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक कीजिये 

Manoj

I am a banker and personal finance manager. I have more than 7 years of experience in the banking industry.

Leave a Reply